हुए बेचैन पहली बार (यासिर देसाई & पलक मुच्छल)

आज हम आपको Ek Hasheen Thi Ek Deewana Tha movie का गाना Hue bechain pahli baar lyrics and review देंगे। जिसको Bollywood के मुख्य गायक और गायिका ने मिलकर गाया हैं। Hue bechain pahli baar singers name Yaseer Desai and Palak Muchhal हैं। Taseer Desai Bollywood मे playback singer हैं और Palak Muchhal भारत की मुख्य playback singer में से है Ek Hasheen Thi Ek Deewana Tha film, 30 june 2017 को release हुई थी। यह एक romantic thriller हैं। इस movie मे संगीत नदीम सैफी ने दिया इसमे lead roles Shiv Darshan, Upen Patel और Natasha Fernandez ने किया हैं।
hue-bechain-pahli-baar-lyrics-and-review

Review:

इस गाने मे मोहब्बत के बारे मे बताया गया है। इस फ़िल्म में एक अभिनेत्री दो अभिनेता है। इसमे पहला अभिनेता मोहब्बत में अपनी बेचैनी के बारे में बताता है। दूसरा अभिनेता अपनी मोहब्बत के गवाह, चाँद - तारो को बताता हैं। अगर इस गाने की खुशमिजाजी के बारे मे बात करे। तो यह गाना true love को दर्शाता है। इस गाने में party का दृश्य दिखाया गया है। यह बहुत ही प्यारा दृश्य है। और अब Hue bechain pahli baar song Lyrics मे पढ़ें।

Details:

  • Song Title: Hue Bechain Pahli Baar
  • Movie: Ek Hasheen Thi Ek Deewana Tha
  • Singers: Yaseer Desai, Palak Muchhal
  • Lyrics: Nadeem Saifi
  • music: Nadeem Saifi
  • Music label: Shree Krishna International
  • Directed by: Suneel Darshan

Lyrics:

हम्म…

हुए बेचैन पहली बार हमने राज ये जाना
मोहब्बत में कोई आशिक
क्यूँ बन जाता हैं दीवाना
अगर इकरार हो जाये
किसी से प्यार हो जाये
बड़ा मुश्किल होता हैं
दिल को समझाना

हुए बेचैन पहली बार हमने राज ये जाना…
मोहब्बत में कोई आशिक
क्यूँ बन जाता हैं दीवाना

तसब्बुर के हसीन लम्हे तेरा एहसास करते है
तेरा जब जिक्र आता है
तो मिलने को तड़पते हैं
हमारा हाल न पूछो
कि दुनिया भूल बैठे हैं
चले आओ तुम्हारे बिन
न मरते है न जीते है
सुनो अच्छा नही होता हैं
किसी को ऐसे तड़पाना
मोहब्बत मे कोई आशिक
क्यूँ बन जाता हैं दीवाना.....

अगर ये प्यार हो जाये
किसी पे दिल जो आ जाएँ
अगर ये प्यार हो जाएँ
किसी पे दिल जो आ जाएँ
बड़ा मुश्किल होता हैं
दिल को समझाना
हुए बेचैन पहली बार हमने राज ये जाना

तू ही हैं तू हैं।
तू ही हैं......
ओ ओ ओ ओ......

फलक से पूँछ लो चाहे
गवाह ये चाँद तारे हैं
ना समझो अजनबी सदियो से
हम तो बस तुम्हारे हैं
मोहब्बत से नही बाकिफ
बहुत अंजान लगती हो
हमे मिलना जरूरी हैं
हकीकत ना समझती हो
कोई कैसे समझ पाएँ
किसी के दिल का अफसाना
मोहब्बत मे कोई आशिक
क्यूँ बन जाता हैं दीवाना
अगर इकरार हो जाएँ
किसी से प्यार हो जाएँ
बड़ा मुश्किल होता हैं
दिल को समझाना.......

हुए बेचैन पहली बार हमने राज ये जाना
मोहब्बत में कोई आशिक
क्यूँ बन जाता है दीवाना........

हम्म........

Post a Comment

3 Comments