दिलबरो, हर्षदीप कौर, विभा सरफ, शंकर महादेवन (राज़ी)

आज हम आपके लिए लाए हैं Raazi Movie का Song dilbaro lyrics and review लाए हैं। यह गाना बहुत ही Popular हो चुका है। ये गाना फिलहाल सभी लड़कियों के दिलों पर राज कर रहा है। क्योंकि baba main teri malika song में, लड़कियों के emotion हैं। इस गाने को Harshdeep Kaur, Vibha Saraf और Shankar Mahadevan ने अपनी आवाज दी है। इसकी lyrics Guljar जी ने लिखी है। Raazi film में Alia Bhatt और Vicky Kaushal जी ने अभिनय किया है। ये film 2018 की blockbuster filmo में से एक है। जिसे जिसे Meghna Gulzar जी ने direct किया है। तो आइए पढ़ते हैं mud ke na dekho dilbaro song review.
mud-ke-na-dekho-dilbaro-song-lyrics-and-review

Review:

बहुत समय बाद bollywood में कोई vidai song आया है। और ये गाना भी एक बेटी के उसके पिता (बाबा) के प्रति भावनाओं को बखूबी बयां करता है। एक बेटी कैसे, हर मुसीबत आने पर। अपने पिता की ओर उम्मीद भरी नजरों से देखती है। ये इस गाने में बताया गया है। "दहलीज ये ऊंची है, पार करा दे" ये line हर एक लड़की के दिल को छूने वाला है। Song vidai का है। तो जाहिर सी बात है। कि इसके चित्रांकन में भी आपको शादी और विदाई देखने को मिलेगी। पर आपको over melodrama देखने को नहीं मिलेगा। रोने-धोने वाले दृश्य में, समय को बर्बाद नहीं किया गया है।
पर हमें एक बात समझ नहीं आती। जब भी बॉलीवुड में विदाई सोंग आता है। तो उसमें सिर्फ बाप का जिक्र क्यों होता है, मां का जिक्र क्यों नहीं? आखिर हमारे पालन पोषण में मां-बाप दोनों का हाथ होता है। तो विदाई सॉन्ग में सिर्फ बाप का जिक्र क्यों?
ये गाना Raazi film का एक जरूरी हिस्सा है। और इसके बोल काफी खूबसूरती से, लड़की के भावनाओं को बयां करती है। Singers Harshdeep Kaur और Vibha Saraf जी ने इस गाने में दर्द और सुर का तालमेल सही रखा है। ये था mud ke na dekho dilbaro song review in hindi. अब पढ़े baba main teri malika song lyrics.

Details:

  • Song title - Dilbaro
  • Singers - Harshdeep Kaur, Vibha Saraf, Shankar Mahadevan
  • Movie - Raazi
  • Lyrics - Gulzar
  • Music - Shankar Ehsaan Loy
  • Music lable - Zee music company
  • Film directed by - Meghna Gulzar

Lyrics:

ऊँगली पकड़ के तूने
चलना सिखाया था ना
दहलीज ऊँची है ये
पार करा दे

बाबा मैं तेरी मल्लिका
टुकड़ा हूँ तेरे दिल का
इक बार फिर से देहलीज़
पार करा दे

मुड़के ना देखो दिलबरो, दिलबरो
दिलबरो..
मुड़के ना देखो दिलबरो (x2)

फसलें जो काटी जाएँ
उगती नहीं हैं
बेटियाँ जो ब्याही जाएँ
मुड़ती नहीं हैं..

ओ.. फसलें जो काटी जाएँ
उगती नहीं हैं
बेटियाँ जो ब्याही जाएँ
मुड़ती नहीं हैं..

ऐसी बिदाई हो तो
लम्बी जुदाई हो तो
देहलीज़ दर्द की भी
पार करा दे

बाबा मैं तेरी मल्लिका
टुकड़ा हूँ तेरे दिल का
इक बार फिर से देहलीज़
पार करा दे

मुड़के ना देखो दिलबरो, दिलबरो
दिलबरो..
मुड़के ना देखो दिलबरो (x2)

मेरे दिलबरो..
बर्फ़ें गलेंगी फिर से
मेरे दिलबरो..
फसलें पकेंगी फिर से
तेरे पाऊँ के तले
मेरी दुआं चलें
दुआ मेरी चलें..

ऊँगली पकड़ के तूने
चलना सिखाया था ना
देहलीज़ ऊँची है ये
पार करा दे

बाबा मैं तेरी मल्लिका
टुकड़ा हूँ तेरे दिल का
इक बार फिर से देहलीज़
पार करा दे

मुड़के ना देखो दिलबरो, दिलबरो
दिलबरो..
मुड़के ना देखो दिलबरो (x2)

Post a Comment

0 Comments