लाहौर दी आ – Lahore Di Song Hindi Lyrics And Review | Guru Randhawa

लाहौर दी आ – Lahore Di Song Hindi Lyrics And Review | Guru Randhawa

आज हम आपको देगे Guru Randhawa का Lagdi Lahore Di Song lyrics and review Hindi में देने वाले हैं। यह बहुत popular हो चुका है। Guru Randhawa खुद एक पंजाबी है। इसलिए उनके ज्यादातर गाने, पंजाबी ही होते हैं। इस गाने के lyrics, और music गुरु रंधावा का ही लिखा हुआ है और आवाज भी उनकी ही है। इस गाने के hero भी वो खुद ही है। चलिए तो पढ़ते हैं Lahore Di Song Review in Hindi.
lahore-di-guru-randhawa-song-lyrics-and-review-in-hindi

Lahore Song Hindi Review

शुरुआत गाने के फिल्मांकन से करते हैं। तो इस गाने आपको कुछ भी खास नहीं मिलेगा। वही एक अमीर लड़का, जो अपनी branded car चलाते हुए कहीं जा रहा होता है। वहीं उसके सामने एक लड़की आ जाती है। और फिर वो उस लड़की की यादों में खो जाता है। फिर उसे हर जगह वही लड़की दिखाई देती है। किसी दूसरी लड़की में भी, वही लड़की दिखाई देती है। और ऐसा ही चलता रहता है। हां कहीं-कहीं पर आपको गुरु रंधावा का डांस देखने को मिलेगा। जो कि उनकी फीमेल फैंस को बहुत पसंद आएगा। एक जमाना था। जब कोई hero, singer का चेहरा बनता था। लेकिन आजकल singer खुद ही hero बन जाते हैं। खैर, यह तो वक्त का बदलाव है। आशा करते हैं गाने के मिजाज की। तो गाना पहले पहले प्यार के नशे में डूबे हुए एक लड़के की है। जिसे पहली नजर में ही प्यार हो जाता है। और वो बस यह चाहता है कि बस वह लड़की उसके सामने एक बार फिर से आए। और वह बात आगे बढ़ाएं। यह भावना (feeling) हर पहली नजर के प्यार में पड़े लोगों की होती है। यह गाना आपको कम से कम 5 बार तो सुनना ही चाहिए। आगे सुनाना सुनना आपकी मर्जी। यह था Guru Randhawa song Lahore Di review in Hindi. अब पढ़ते हैं Lahore song Guru Randhawa Lyrics In Hindi.

Song details

  • Song - Lahore Di
  • Singer - Guru Randhawa
  • Lyrics - Guru Randhawa
  • Music - Guru Randhawa
  • Label - T-Series

Lahore Di Hindi Lyrics

ओ लगदी लाहौर दी आ
जिस हिसाब ना हँसदी आ
ओ लगदी पंजाब दी आ
जिस हिसाब ना तकदी आ

ओ लगदी लाहौर दी आ
जिस हिसाब ना हँसदी आ
कुड़ी दा पता करो
केडे पिंड दी आ
केडे शहर दी आ

ओ लगदी लाहौर दी आ
जिस हिसाब ना हँसदी आ
ओ लगदी पंजाब दी आ
जिस हिसाब ना तकदी आ

दिल्ली दा नखरा आ
स्टाइल ओहदा बखरा आ
बॉम्बे दी गर्मी वांग
नेचर ओहदा अठरा आ

लन्दन तो आई लगदी आ
जिस हिसाब ना चलदी आ (×2)

कुड़ी दा पता करो
केडे पिंड दी आ
केडे शहर दी आ

ओ लगदी पंजाब दी आ
ओ लगदी लाहौर दी आ
ओ लगदी पंजाब दी आ
ओ लगदी लाहौर दी आ

चैन मेरा ले गई आ
दिल विच बह गई आ
बुल्लीयां ते चुप ओहदी
सब कुछ कह गई आ (×2)

अखियाँ ना गोली मार दी आ
अंदरो प्यार वि करदी आ (×2)

कुड़ी दा पता करो
केडे पिंड दी आ
केडे शहर दी आ

ओ लगदी पंजाब दी आ
ओ लगदी लाहौर दी आ
ओ लगदी पंजाब दी आ
ओ लगदी लाहौर दी आ

ओ लगदी लाहौर दी आ
जिस हिसाब ना हँसदी आ
ओ लगदी पंजाब दी आ
जिस हिसाब ना तकदी आ

ओ लगदी लाहौर दी आ
जिस हिसाब ना हँसदी आ

कुड़ी दा पता करो
केडे पिंड दी आ
केडे शहर दी आ

लगदी लाहौर दी आ
ओ लगदी पंजाब दी आ

No comments