ओ मेरी लैला, आतिफ असलम & ज्योतिका तंगरी (लैला मजनू 2018)

इस post में आप Laila Majnu (2018) film का O Meri Laila Lyrics and review पढ़ेंगे। ये एक romantic love story है। जिसे Sajid Ali जी ने डायरेक्ट किया है। इसमें काम करने वाले कलाकारों के नाम Avinash Tiwari और Tripti Dimri है। O Meri Laila singers name Atif Aslam और Jyotica Tangri है।
o-meri-laila-lyrics-laila-majnu
आतिफ असलम को तो आप जानते ही होंगे। ज्योतिका के बारे में आपको बता दें भारतीय संगीत में अभी इनकी शुरूआत ही हुई है। इससे पहले भी वह कुछ गानों को अपनी आवाज दे चुकी है। जिसमें से सबसे मुख्य, "मैं फिर भी तुम को चाहूंगी और पल्लो लटके हैं" गाना है। इस गाने को संगीत से नवाजा Joi Barua जी ने। और इसके lyrics लिखे हैं Irshad Kamil जी ने। O Meri Laila Laila Lyrics पढ़ने से पहले, Song Review पढ़ लेते हैं।

Review:

इस गाने में ज्यादातर उर्दू शब्द का इस्तेमाल किया गया है। तो क्यों ना हम इसकी समीक्षा भी उर्दू में ही करें। तो मेरी सबसे पहली line यह है की, मेरे पास तारीफ के लिए कोई लफ्ज़ ही नहीं है। कई अरसे बाद कोई ऐसा गाना सुना है। जो शुद्ध देसी गाना है। इसमें एक भी अंग्रेजी का शब्द का इस्तेमाल नहीं किया गया। इसके बावजूद इस गाने की खूबसूरती का, कोई पैमाना नहीं है। O Meri Laila Song का एक-एक लफ्ज़ मोहब्बत की चाशनी में डूबा हुआ है। आतिफ असलम की जादुई भरी आवाज ने, इस गाने को और भी ज्यादा जादुई भरा दिया है। इस गाने की कुछ lines, fast beat पर है। जो कि बहुत मजेदार है। इस गाने के फिल्मांकन की बात करें। तो गाने के मुकाबले, फिल्मांकन उतना अच्छा नहीं है। इस गाने का फिल्मांकन और बेहतर तरीके से हो सकता था। गाने की मौसिकी के हिसाब से, गाने में नजारे दिखाई गए होते या थोड़ा और dance दिखाया होता। तो ज्यादा मजा आता। मेरी नजर में यह गाना, देखने से ज्यादा सुनने में अच्छा है। तो इसे जरूर सुनिए। और अब पढ़ते हैं Song O Meri Laila Hindi Lyrics Laila Majnu (2018)

Details:

  • Song Title - O Meri Laila Laila
  • Movie - Laila Majnu (2018)
  • Singers - Atif Aslam, Jyotica Tangri
  • Music - Joi Barua
  • Lyrics - Irshad Kamil
  • Label - Zee Music Company

Lyrics:

पत्ता अनारों का
पत्ता चनारों का
जैसे हवाओं में
ऐसे भटकता हूँ
दिन रात दिखता हूँ
मैं तेरी राहों में

मेरे गुनाहों में
मेरे सवाबों में शामिल तू
भूली अठन्नी सी
बचपन के कुरते में से मिल तू

रखूं छुपा के मैं सब से वो लैला
मांगूं ज़माने से, रब से वो लैला
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला

तेरी तलब थी हाँ तेरी तलब है
तू ही तो सब थी हाँ तू ही तो सब है
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला..

[ओ मेरी लैला, लैला
ख्वाब तू है पहला
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला] (×2)

मांगी थी दुआएं जो
उनका ही असर है हम साथ हैं
ना यहाँ दिखावा है
ना यहाँ दुनयावी जज़्बात हैं

यहाँ पे भी तू
हूरों से ज्यादा हसीं
यानी दोनों जहानों में तुमसा नहीं
जीत लि हैं आखिर में
हम दोनों ने ये बाजियां..

रखूं छुपा के मैं सब से वो लैला
मांगूं ज़माने से, रब से वो लैला
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला

तेरी तलब थी हाँ तेरी तलब है
तू ही तो सब थी हाँ तू ही तो सब है
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला..

[ओ मेरी लैला, लैला
ख्वाब तू है पहला
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला] (×2)

जाइका जवानी में
ख़्वाबों में यार की मेहमानी में
मर्जियां तुम्हारी हो
खुश रहूँ मैं तेरी मनमानी में

बंद आँखें करूँ
दिन को रातें करूँ
तेरी जुल्फों को सहला के बातें करूँ
इश्क में उन बातों से हो
मीठी सी नाराज़ियाँ

रखूं छुपा के मैं सब से वो लैला
मांगूं ज़माने से, रब से वो लैला
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला

तेरी तलब थी हाँ तेरी तलब है
तू ही तो सब थी हाँ तू ही तो सब है
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला..

[ओ मेरी लैला, लैला
ख्वाब तू है पहला
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला] (×2)

Post a Comment

0 Comments