लता मंगेशकर की जीवनी हिंदी में | Lata Mangeshkar Biography

आज हम आपको स्वरसामग्री के नाम से जाने, जाने वाली लता मंगेशकर की जीवनी (Lata Mangeshkar biography) बताने वाले हैं। करीब 7 दशकों तक हिंदी सिनेमा में पर्श्रवगयिका के रूप में राज करने वाली। इस महिला को स्वरकोकिला भी कहा जाता है। अपने दिल छू लेने वाली आवाज, और हर गाने में जादुई एहसास भर देने वाली इस गायिका को, हिंदी सिनेमा का इतिहास में हमेशा याद रखा जाएगा।

lata-mangeshkar-ke-jivan-ki-puri-kahani

तकरीबन 20 भाषाओं में 30,000 से भी ज्यादा गाने का रिकॉर्ड इनके नाम है। आज भी Lata Mangeshkar songs Google में हर महीने 201,000 बार search किया जाता है। वो एक ऐसी शख्सियत है। जिनके जैसा शायद ही कोई दूसरा हो। ज़िन्दगी में ढेरों उतार चढ़ाव को देखने वाली लता जी। आजीवन अविवहित ही रही। तो चलिए अब पूरे विस्तार से इनके जिंदगी की कहानी बताते हैं। (Lata Mangeshkar Life Story)

Biography

लता मंगेशकर का जन्म 29 सितंबर 1929 को मराठी परिवार में, मध्यप्रदेश के इंदौर में हुआ था। उनके पापा का नाम पंडित दीनानाथ मंगेशकर और माता का नाम शेवंती मंगेशकर था। परिवार का उपनाम हर्डीकर कर था। पर बाद में दीनानाथ जी ने इसे बदलकर मंगेशकर रख लिया। जो उनके पुश्तैनी गांव, मंगेशी (गोवा) का प्रतिनिधित्व करता है। उनके पिता शास्त्रीय गायक और मंच कलाकार (theatre actor) थे।

दीनानाथ जी की दो शादियां हुई थी। लता जी की मां उनकी दूसरी पत्नी थी। जो महाराष्ट्र के थालनेर से थी। Lata Mangeshkar जी का जन्म के बाद उनका नाम "हेमा" रखा गया था। जिसे 5 वर्ष की आ में बदलकर लता रख दिया गया। लता जी की तीन बहनें और एक भाई था। जिसमें बहनों का नाम उषा मंगेशकर, मीना मंगेशकर और आशा भोसले, और भाई का नाम हृदयनाथ मंगेशकर है। और सभी भाई बहन संगीत के क्षेत्र में ही अपना career बनाया।

लता जी मात्र एक दिन ही स्कूल गयीं थीं। क्यूंकि वो अपनी बहन आशा भोसले को साथ लेकर गई थी। तो स्कूल से आशा जी को निकाल दिया गया। इसलिए क्योंकि उनका दाखिला वहां नहीं कराया गया था। इस बात से लता दीदी बहुत गुस्सा हुई थी। और वो कभी भी विद्यालय ना जाने का फैसला कर लेती है।

मात्र 5 वर्ष की आयु में ही Lata Mangeshkar अपने पिता से ही शास्त्रीय संगीत की शिक्षा लेने लगी। उनके साथ बाकी भाई बहन भी सीखते थे। वो अपने पिता के संगीत नाटक (musical drama) में अभिनय करने लगी। मगर उनकी रुचि हमेशा से ही गायन में रही रही थी। लता जी के अंदर छुपे हुए महान गायक को, उनके पिता दीनानाथ जी ने पहचान लिए था।

गायिका लता मंगेशकर जी तब 7 साल की थी। जब वो पूरे परिवार के साथ मुंबई आ गयी थी। लेकिन उनकी ज़िंदगी का टर्निंग प्वाइंट तब आया। जब 1942 में उनके पिता कि हृदयाघात की वजह से मृत्यु हो गई। ये उनकी ज़िंदगी के लिए। सबसे बड़ी मुश्किल की घड़ी थी। तब वो सिर्फ 13 साल की थी। और सभी भाई बहनों में सबसे बड़ी थी। तो घर चलाने के लिए। उन्हें उसी उम्र में काम करना पड़ा।

पिता के देहांत से पहले ही लता जी ने मराठी फिल्म कीर्ती हसाल के लिए "नाचू या ना गड़े खेडू सारी, मानी हौस भारी" गाना गाया था। लेकिन उनके पिता नहीं चाहते थे कि फिल्मों के लिए गाए। इसलिए ये गाना फिल्म से निकाल दिया गया। लेकिन पिता के मृत्यु के बाद, उन्हें मजबूरन कुछ हिंदी और मराठी फिल्मों में अभिनय करना पड़ा। जो उन्हें बिल्कुल भी पसंद नहीं थी। लेकिन पैसों के तंगी की वजह से, उन्हें ये करना पड़ा।

Career

लता मंगेशकर के career की शुरुआत अभिनय से हुई थी। पैसों की तंगी के कारण, उन्हें अभिनय करना पड़ा। अभिनेत्री के रूप में उनकी पहली फिल्म का "पाहिली मंगलागौर (1942)" नाम था। जिसमे उन्होंने स्नेहप्रभा प्रधान की छोटी बहन की भूमिका निभाई थी। इसके बाद वो एक के बाद एक फिल्में करती गई। इसी तरह 4-5 साल गुजर गए।

लता जी जब अपने गाने के लिए संघर्ष कर रही थी। उस सबसे की प्रसिद्ध गायिका नूरजहां थी। नूरजहां की खोज करने वाले उस्ताद ग़ुलाम हैदर साहब थे। और लता मंगेशकर जी की प्रतिभा को भी, उन्होंने ही पहचाना। वो अपनी आने वाली फिल्म में लता जी से पार्श्वगायन करवाना चाहते थे। जिसमें कामिनी कौशल मुख्य किरदार निभा रही थी। वो लता दीदी को निर्माता के studio ले गए। लेकिन यहां उन्हें असफलता हाथ लगी।

फिर 1947 में वसंत जोगलेकर जी ने लता जी को अपनी फिल्म "आपकी सेवा" में गाने का मौका दिया। इस फिल्म में गाए हुए गानों की वजह से, लता जी की काफी चर्चा हुई। इसके बाद उन्होंने कई फिल्मों में पार्श्वगायन किया। लेकिन अभी भी उन्हें एक super duper hit song नहीं मिला था। जो की एक singer पहचान दिलाने के लिए जरूरी होता है।

फिर 1949 में आई फ़िल्म का गाना "आयेगा आयेगा आने वाला" गाने ने लता जी की जिंदगी बदल दी। इसी गाने की वजह से वह एक मुख्य गायिका के तौर पर स्थापित हुई। यह गाना भी superhit रहा और film भी superhit रही। लता जी के साथ-साथ, मधुबाला की भी इस film के जरिए पहचान बनी। बस इसी के बाद से लता मंगेशकर जी ने कभी भी पीछे मुड़कर नहीं देखा। लता जी का गाया हुआ ए मेरे वतन के लोगों देशभक्ति गीत को लोग आज भी नहीं भूले हैं।

Family

बचपन में लता का परिवार, एक भरा पूरा परिवार था। मां बाप तीन बहनें और एक भाई वाला ये पूरा परिवार साथ रहता था। लता इस परिवार की सबसे बड़ी बेटी थी। शायद इसीलिए उनके अंदर जिम्मेदारी का भाव बहुत कम उम्र में आ गया। और वो अपने पिता के गुजर जाने के बाद से, अपने परिवार का ख्याल रखा। आज के समय की बात करे। तो उनके लिए। उनके भाई बहनों का परिवार ही, उनका परिवार है।

Husband

लता जी आजीवन अविवाहित रही। उन्होंने शादी क्यों नहीं किया। इस सवाल का लता जी ने कभी भी कोई सटीक जवाब नहीं दिया। लेकिन वो इतना जरूर कहती रही कि, "परिवार की जिम्मेदारियों की वजह से, वो कभी अपने ज़िन्दगी के बारे में सोच नहीं पायी।" लेकिन असल वजह क्या है? ये कोई नहीं जानता। मगर media में उनके शादी ना करने की कई सारी अटकलें लगाता रहा है। मगर अटकलें सिर्फ अटकलें ही होती हैं। उनका सच्चाई से ज्यादा लेना-देना नहीं होता।

Awards

लता मंगेशकर के पूरे जीवन काल में अनेकों अवार्ड से सम्मानित की गई है। 1974 में गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में सबसे ज्यादा गाना गाने का खिताब दिया था। इसके साथ ही उन्हें 1969 में पद्म भूषण पुरस्कार से नवाजा गया था। 2001 में उन्हें भारत रत्न से भी सम्मानित किया गया। उन्हें कई सारे lifetime achievement award से नवाजा गया है।

  • Filmfare (1958, 1962, 1965, 1969, 1993 and 1994)
  • 1993 - Filmfare lifetime achievement
  • National Award (1972, 1975 and 1990)
  • Maharashtra government award (1966 and 1967)
  • 1989 - Dada Saheb Phalke award
  • 1996 - Screen lifetime achievement award
  • 1997 - Rajiv Gandhi award
  • 1999 - NTR award
  • 1999 - Padma Vibhushan award
  • 1999 - Zee Cine lifetime achievement award
  • 2000 - IIAF lifetime achievement award
  • 2001 - Stardom lifetime achievement award
  • 2001 - Noor Jahan award
  • 2001 - Maharashtra Bhushan

तो ये थी लता मंगेशकर के जीवन की पूरी कहानी हिंदी में। बहुत कुछ ऐसा है। जो post में छूट गया होगा। अगर आपको कोई ऐसी बात समझ आए। तो हमें जरूर बताएं। हम तुरंत post update करेंगे।

Post a Comment

0 Comments