अधूरा लफ्ज़ (राहत फतेह अली खान, प्रतिभा सिंह बघेल) | Review

आज के लेख में film Bazaar आप Adhura Lafz Lyrics And Review पढेंगे। Gauravv K. Chawla के निर्देशन में बन रही है फिल्म जल्द ही Release होने वाली है। अधूरा लफ्ज़ बॉलीवुड का एक रोमांटिक गीत है, जिसे राहत फतेह अली खान (Rahat Fateh Ali Khan) जी ने प्रतिभा सिंह बघेल (Pratibha Singh Baghel) के साथ गाया है। Adhura Lafz Lyrics जमील अहमद (Zamil Ahmed) जी ने लिखे है और इस गीत में संगीत दिया है सोहेल सेन (Sohail Sen) जी ने। बाजार फिल्म में सैफ अली खान, चित्रांगदा सिंह, राधिका आप्टे, डेंजिल स्मिथ और रोहन मेहरा (पहली फिल्म) मुख्य किरदार निभा रहे हैं।

adhura-lafz-lyrics-from-bazar-rahat-fateh-ali-khan

Review:


अपनी खुशी बयां करने वाला, अपने अपनी जिंदगी में मिले खुशियों के लिए खुदा को शुक्रिया कहने वाला यह गाना, हर खुशी के मौके के लिए सबसे बेहतर गाना है। जमील अहमद जी ने काफी खूबसूरत उर्दू शब्दों का इस्तेमाल करके, इस गाने को और भी जानदार बना दिया गया।

क्योंकि इस गाने की हर लाइन अपने आप में ही पूरी बात कह जाती है। चाहे वो sari duniya ki nemat mujhko mil gayi hai या फिर maine mangi jo jannat mujhko mil gayi hai, ये ही पंक्तियां अपनी बात समझ देने में सक्षम है।

गाने का माहौल शादी का है, जिसमें खूब सारा नाच गाना है। आपको बहुत समय बाद किसी बॉलीवुड गाने में शास्त्रीय नृत्य देखने को मिलेगा। सभी कलाकार अपने किरदार के प्यार, और जज्बे को अच्छी तरह जीते हैं।

शास्त्रीय नृत्य और दिल की खुशी को बयां करने वाला, हर खुशी के मौके के लिए बेहतर है और अपने खूबसूरत बोल और गायकी की वजह से अधूरा लफ्ज़ गाना, लंबे समय तक आशिकों के दिलों में राज करेगा। अधूरा लफ्ज़ गाने की समीक्षा के बाद अब Adhura Lafz Song Lyrics पढ़ते हैं।

Details:

  • Singer - Rahat Fateh Ali Khan, Pratibha Singh Baghel
  • Movie - Bazaar
  • Starring - Saif Ali Khan, Chitrangada Singh, Radhika Apte, Denzil Smith, Rohan Mehra
  • Music - Sohail Sen
  • Lyrics - Jameel Ahmad
  • Label - Times Music

Lyrics:

सारी दुनिया की नेमत मुझको मिल गयी है
मैंने मांगी जो मन्नत मुझको मिल गयी है
ओ..सारी दुनिया की नेमत मुझको मिल गयी है
मैंने मांगी जो मन्नत मुझको मिल गयी है

फासले दरमियाँ से फ़ना हो गए
मेरे ख्वाबों की जन्नत
मुझको मिल गयी हैं

तेरे बिना मैं अधूरा लफ्ज़ हूँ
पढ़ ले मुझे मैं तेरा इश्क़ हूँ (x3)

सजना.. आ..
सजना.. सजना..

हो.. कहता है दिल ये
तुझपे कर लूं सजदा रे
लगता है चेहरा जैसे रब का रे

जिस्म-ओ-जान दे दूं तुझको
ऐसे अपना रे
देता है जैसे कोई
जान का सदका रे

देखो बाहों में आके
सारी दुनिया भुला के
कहता है लम्हा प्यार का..

तेरे बिना मैं अधूरा लफ्ज़ हूँ
पढ़ ले मुझे मैं तेरा इश्क़ हूँ (x3)

हो.. हो..

तू करे अगर इशारा
छोड़ दूं मैं जहां को
काश बिन कहे तू समझे
मेरे दर्द की ज़ुबान को

हो.. तू करे अगर इशारा
छोड़ दूं मैं जहां को
काश बिन कहे तू समझे
मेरे दर्द की ज़ुबान को

हो.. चाहत का तू दरिया
जीने का तू जरिया
चाहूँ सदा मैं साथ तेरा..

तेरे बिना मैं अधूरा लफ्ज़ हूँ
पढ़ ले मुझे मैं तेरा इश्क़ हूँ (x3)

More Rahat Fateh Ali Khan Songs

Post a Comment

0 Comments