O Dharti Tarse Ambar Barse Lyrics And Review - Baghban (Hindi)

2003 में आई superhit film Baghban तो आप सबको याद ही होगी तो आप इसी फिल्म का O Dharti Tarse Ambar Barse Lyrics And Review में आप अभी पढ़ने वाले हैं। ये फिल्म सिर्फ मनोरंजन के उद्देश्य से ही नहीं बल्कि एक गंभीर सामाजिक संदेश देने के लिए भी सक्षम फिल्म थी। अगर आप यह सोच रहे हैं कि यह कौन सा गाना है तब आपको बता दें कि Bago Ke Har Phool Ko Apna song का ये पहला लाइन है। जिस तरह नैनो की तो बात गाने के कई सारे copyrights change हुए हैं, उसी तरह बागबान रब है बागबान के भी कई copyrights बदले हैं जिसकी वजह से इस गाने के भी इतने सारे नाम बन गए हैं। Bago Ke Har Phool Ko Apna Samjhe Baghban singer name Richa Sharma है और अमिताभ बच्चन ने Baghban Rab Hai Baghban गाने की पंक्तियां पढ़ी है।

bagon-ke-har-phool-ko-apna-lyrics-baghban

Bago Ke Har Phool Ko singer Richa Sharma के career का यादगार गाना माना जाता है। इस गाने को Sameer जी ने लिखा है और Aadesh Shrivastava जी संगीत से संवारा है। Baghban film में Amitabh Bachchan और Hema Malini मुख्य किरदार में नजर आए थे। O Dharti Tarse Ambar Barse Lyrics पढ़ने से पहले, Baghban Rab Hai Baghban song review पढ़ लीजिए।

O Dharti Tarse Ambar Barse Review In Hindi:

Bagon Ke Har Phool Ko Song बिल्कुल अपनी कहानी को बयां करता है। जैसा की आप जानते होंगे की ये फिल्म बुजुर्ग माता पिता को संतान के कारण होने वाले दुखों पर आधारित है और बागबान रब है बागबान गाना इस फिल्म title song है।

O Dharti Tarse Ambar Barse Lyrics बेहद शानदार है। इसके हर एक शब्द जीवन की सच्चाई बताते हैं जिससे हम सबको कभी ना कभी गुजरना ही है। समीर के लिखे हर गाने की खास बात यही होती है कि साधारण से साधारण शब्दों के इस्तेमाल से भी वह असाधारण बात कह जाते हैं।

गाने का कोई सटीक फिल्मांकन नहीं है। क्योंकि फिल्म में यह गाना अलग-अलग दृश्यों में, फिल्माया गया है। लेकिन यह गाना बहुत ही भावनात्मक है। सुनने वाला कोई भी व्यक्ति, अगर इसके मर्म को समझे तो वो आंसू बहाए बिना नहीं रह सकता।

Song Details:

  • Song: Bago Ke Har Phool Ko Apna Samjhe
  • Singers: Richa Sharma,
  • Music: Aadesh Shrivastava
  • lyrics: Sameer
  • Movie: Baghban
  • Starring: Amitabh Bachchan, Hema Malini
  • Label: T-Series

O Dharti Tarse Ambar Barse Lyrics In Hindi:

बाग को जन्म देने वाला बागबान
परिवार को जन्म देने वाला पिता
दोनो ही अपने खून पसीने से
अपने पोधो को सींचते हैं
ना सिर्फ अपने पेड़ से
उसके साए से भी प्यार करते हैं
क्यूं की उसे उम्मीद है, एक रोज़
जब वो ज़िन्दगी से थक जाएगा
यही साया उसके काम आयेगा

ओ धरती तरसे अम्बर बरसे
रुत आये रुत जाए हाय
हर मौसम की खुशबू चुनके
बागबान बाग सजाये
बागों के हर फूल को अपना समझे बागबान (×2)
हर घड़ी करे रखवाली
पत्ती पत्ती, डाली डाली सींचे बागबान
बागों के हर फूल को अपना, समझे बागबान (×2)
हर घड़ी करे रखवाली
पत्ती पत्ती, डाली डाली सींचे बागबान
बागबान रब है बागबान (×4)

ओ मधुबन की बहार ले आए
मौसम रीते रीते हाय मौसम रीते रीते
जन्म जन्म की तृष्णा बुझ गयी
बिरहा के क्षण बीते हाय बिरहा के क्षण बीते
फिर से सजाये बिखरे अपने, सपने बागबान (×2)
बागबान रब है बागबान (×3)
बागबान रब है रब है बागबान

ओ उंगली थामके जिन बिरहों को
हमने दिखाई राह
मात पिता की उनके मन में
तनिक नही परवाह
ओ अँसुअन भर नैनो से इनको, देखे बागबान
अँसुअन भर नैनो से इनको, देखे बागबान
बागबान रब है बागबान (×4)

हो किसने दुःख की अग्नि डाली
बंजर हो गए खेत
हरी भरी जीवन बगिया से
उड़ने लगी है रेत हाय
क्या बोया था और क्या काटा सोचे बागबान (×2)
बागबान रब है बागबान (×3)
बागबान रब है रब है बागबान

हो यही सोचके सांसे लिख दी
इन फूलन के नाम
इनकी छइंया छइंया बीते
उम्र की ढलती शाम
गुंचे हरदम ही मुस्काए चाहे बागबान (×2)
हर घड़ी करे रखवाली
पत्ती पत्ती, डाली डाली सींचे बागबान
बागबान रब है बागबान (×2)
बागबान रब है रब है रब है रब है रब है बागबान

वो सूरज है लाई जिसने
धुप आंगन आंगन में
क्यूं है अकेलेपन का अन्धेरा
आज उसी के दामन में
क्या चाहा था और क्या पाया सोचे बागबान (×2)
बागबान रब है बागबान (×4)
बागबान रब है बागबान बागबान बागबान

More Songs:

Post a Comment

0 Comments