Radha Krishna Maharaas Leela (Serial) | Song Review

radha-krishna-maharaas

Radha Krishna Serial Rasleela Song Lyrics and Review: इस पोस्ट में आप पूर्णचंद्र और गोलोक, दोनों ही महारास के लिरिक्स पढेंगे। धारावाहिक राधाकृष्ण के सभी रासलीला गाने को मोहित मिश्रा और गुल सक्सेना ने गाया है। इस Maha Rasleela Song Lyrics, विकास चौहान ने लिखा और संगीत सूर्यराज कमल जी द्वारा बनाया गया है। सुमेध मुद्गलकर और मल्लिका सिंह द्वारा अभिनीत है। Param Premay Radhika Lyrics पढ़ने से पहले उसकी समीक्षा।

Review:

फिल्मांकनRadhakrishn serial में Raas Leela song कई बार दिखाया गया है, वो भी अलग अलग बोल के साथ। गोलोक रासलीला, महारास लीला, पूर्ण चंद्र पूर्णिमा रासलीला, गोपेश्वर रासलीला, जैसे कई रासलीलाएं दिखाए गए हैं। सभी अपने आप में अद्भुत है। चाहे वो नृत्य हो या राधा कृष्ण की जुगलबंदी। सबकुछ आपको बांधे रखता है।

लिरिक्स और संगीत – जैसा कि हमने आपको बताया कि सीरियल में रासलीलाएं दिखाई गई है और हर रासलीला गाने के बोल में, बस दो-चार पंक्तियां ही अलग रहती है। बाकी का पूरा गाना एक जैसा रहता है। गाने के बोल सराहनीय है। क्योंकि ये शुद्ध हिंदी शब्दों के प्रयोग से लिखी गई हैं। इसी कारण ऐसे शब्द सुनने को मिलते हैं। जिनका मतलब भी लोग नही समझ पाते। गोलोक महारास की पहली लाइन ही माता राधा रानी के चरित्र का पूरा वर्णन (discribe) कर देती है। संगीत भी ठीक ठाक है। लेकिन अन्य गानों की तरह प्रभावशाली नही है। अब पूर्णचन्द्र पूर्णिमा और गोलोक महारास लिरिक्स पढ़े।

Details:

  • Singer: मोहित मिश्रा, गुल सक्सेना
  • Lyrics: विकास चौहान
  • Music: सूर्यराज कमल
  • Serial: राधाकृष्ण
  • Casting: सुमेध मुद्गलकर, मल्लिका सिंह
  • Label: स्टार भारत

Purn Chandra Maharaas Lyrics:

पूर्णचन्द्र उज्ज्वल निशा
चहुँ दिशि उल्हास
मधुवन के कण कण में है
थिरक रहा महारास

राधा कृष्णा, राधा कृष्णा

आज धरा नीज भाग्य पे देखो
जाये स्वयं ही वारि
जमुना जी की तट की सुंदर
छटा आज है न्यारी
मंद सुगंधित पवन चले
देखो होकर मतवारी
राधा के संग रास रचाए
कान्हा कुंज बिहारी
राधा कृष्णा, राधा कृष्णा

प्रेम रूप धरकर आए हैं
देखो प्रेम पुजारी
मोर मुकुट पीतांबर साजे
मनभावन छवि प्यारी
हो स्वर्ग उतर आया धरती पर
सृष्टि है आभारी
कण कण बोले जय मुरलीधर
जय वृषभान दुलारी

राधा राधा राधा राधा
कृष्णा कृष्णा कृष्णा (×2)

राधा कृष्णा, कृष्णा राधा

Golok Maharaas Lyrics:

परम प्रेममय राधिका
कृष्णा परम उल्हास
मधुर मिलन के क्षण रचे
कण कण में महारास
राधा कृष्णा, राधा कृष्णा

श्याम रंग में रंगी राधिका
आज हुई मदवारी
कृष्ण कृष्ण दोहराए हर पल
भूल के सुध बुध सारी
महारास की पावन बेला
तीन लोक से न्यारी
रास रचाए गोलोक में
कान्हा कुंज बिहारी
राधा कृष्णा, राधा कृष्णा

जान कृष्ण है ध्यान कृष्ण है
तन मन जीवन प्राण कृष्ण है
मान कृष्ण अभिमान कृष्ण है
राधा के भगवन कृष्ण है

कृष्ण बिना कुछ और नही है
राधा के जीवन में
बसी हुई छवि कृष्ण की
राधा के नयनन में

सदा महकती है राधा
इन सांसो के मधुबन में
आठों पहर राधा का सुमिरन
है मोहन के मन में
राधा कृष्णा, राधा कृष्णा

दो तन एक प्राण है दोनों
अलग ना एक दूजे से
दोनों ही है एक रूप
कोई अलग कहे उन्हें कैसे
एक दूजे से जुड़े हैं दोनों
राधे और गिरधारी
राधा के संग रास रचाए
राधा रास बिहारी

राधा राधा राधा राधा
कृष्णा कृष्णा कृष्णा (×4)

राधा कृष्णा, कृष्णा राधा

Radha Krishna Songs

  1. कृष्ण है विस्तार
  2. तुम बिना मैं कुछ नहीं हूं
  3. तुम प्रेम हो तुम प्रीत हो
  4. ओ कान्हा ओ कृष्णा
  5. क्या हो रहा क्यूं हो रहा

Post a Comment

0 Comments