Serial Radhakrishn – Pyas Daras Ki

serial-radhakrishna-milan-geet-lyrics-in-Hindi

नमस्कार दोस्तों… इस पोस्ट में आप serial राधाकृष्ण का, राधा कृष्ण मिलन गीत यानी की प्यास दरस की Lyrics और Review पढ़ेंगे। इस मधुर गीत को कृष्णा बेउरा (Krishna Beura) ने गाया है। संगीत जितेश पांचाल (Jitesh Panchal) का है और Pyas Daras Ki Lyrics नीतू पांडे क्रांति (Neetu Pandey Kranti) ने लिखे हैं। सुमेध मुद्गलकर और मल्लिका सिंह इस सीरियल केे मुख्य कलाकार हैं।

Review

फिल्मांकन: ये गाना इस serial का sad song है। जैसा कि इसका नाम ही राधा कृष्ण मिलन गीत है। तो इसका फिल्मांकन भी वैसा ही कुछ है। आँसू भरे दृश्यों के साथ जब यह गाना टीवी पर आता है। तो देखने वाले दर्शकों की आंखें भी छलक जाती है। इन दृश्यों में दर्शक, प्रेम को एक अलग ही रूप में देख पाते हैं।

बोल और संगीत: प्यार से दरस के गाने के बोल, शुद्ध हिंदी में लिखे गए हैं और इसका संगीत भी अपने बोल को के अनुरूप है। यानी कि जितना दर्द, जितना प्रेम, आपको Pyaas Daras Ki Lyrics में मिलेंगे। उतना ही दर्द, उतना ही प्रेम, संगीत में भी है। बाकी sad songs की तरह यह गाना पूरी तरह से show motion में नहीं है। शुरुआत धीमी होती है मगर आगे चलकर इसकी beats fast हो जाती है। हो सकता है कि आपको गाने के कुछ शब्द समझ में ना आए।

अंतिम शब्द: इस गाने के भाव साफ शब्दों में बताते हैं कि अगर प्यार सच्चा और निश्छल है। तो उसे मिलने से कोई नहीं रोक सकता। गाने के बोल, इसके संगीत से ज्यादा दमदार है (हो सकता है कि आपको कुछ शब्दों के मतलब ना समझ पाए) और इसे गाने वाले गायक कृष्ण बेउरा ने बड़ी मेहनत से इसे गाया है। शास्त्रीय गायन आसान नहीं होता। इसलिए उनकी तारीफ करना जरूरी है। आपको एक बार ये गाना जरूर सुनना चाहिए।

Details

  • Singer: कृष्ण बेउरा
  • Lyrics: नीतू पांडे क्रांति
  • Music: जितेश पांचाल
  • Serial: राधाकृष्ण
  • Starring: सुमेध मुद्गलकर & मल्लिका सिंह
  • Label: Star Bharat

Lyrics


प्यास दरस की अंखियों में
मन के भीतर टोह
प्रीत तो बस प्रियतम से है
जग से कैसा मोह रे
जग से कैसा मोह

प्रेम जो जाने प्रेम ही माने
प्रेम बिना जग सूना
प्रेम पूजारण प्रीत को देखे
बिन नहीं खोले नैना

हो मन से मीत का स्वर मिल जाए
धरती अंबर सब झुक जाए
प्रेम की लगन लगे
जब प्रेम की हो लय
मिलने से ना रोके नियति
ना रोक पाए समय
प्रेम बसे जिस तन मन
प्रेम भरा हो जीवन
प्रेम लगे अधूरा सा
जब तक ना हो प्रेम मिलन

हो पवन करे चाहे मनमानी
चाहे धरा हो पानी पानी (×2)
समय की हो चाहे उल्टी धारा
चाहे नदी ना देवे किनारा

हो प्रेम जो अपने हृदय में पाले
वो तो स्वयं ही मार्ग निकाले
प्रेम की लगन लगे
जब प्रेम की हो लय
मिलने से ना रोके नियति
ना रोक पाए समय
प्रेम बसे जिस तन मन
प्रेम भरा हो जीवन
प्रेम लगे अधूरा सा
जब तक ना हो प्रेम मिलन

हो घने रैन का भोर प्रेम है
इत उत चारों ओर प्रेम है (×2)
प्रण में प्रेम है प्रेम वचन में
प्रेम है सृष्टि के कण-कण में

एक दूजे से जुड़ने वाले
मिल जाते हैं मिलने वाले
प्रेम की लगन लगे
जब प्रेम की हो लय
मिलने से ना रोके नियति
ना रोक पाए समय
प्रेम बसे जिस तन मन
प्रेम भरा हो जीवन
प्रेम लगे अधूरा सा
जब तक ना हो प्रेम मिलन

राधाकृष्ण राधाकृष्ण राधाकृष्ण राधाकृष्ण (×2)

राधा, कृष्णा राधा, राधा कृष्ण

Video

Radha Krishna Songs

Post a Comment

0 Comments